Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi Lyrics - Rahat Indori | बुलाती है मगर जाने का नहीं लिरिक्स

Read Now Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi Lyrics (in Hindi as: बुलाती है मगर जाने का नहीं लिरिक्स) by Rahat Indori.

Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi, there is such a poem that suggests us about love in life. Read this poem and try to understand the sentences of Rahat Indori. If you do not understand any words, then we mean the words below has given.
Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi Lyrics - Rahat Indori | बुलाती है मगर जाने का नहीं लिरिक्स
Poetry Name: Bulati Hai Magar Jaane Ka..
Writer: Rahat Indori

Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi Lyrics

Bulati Hain Magar Jaane Ka Nahi
Ye Duniya Hain Idhar Jaane Ka Nahi
Mere Bete  Kisi Se Ishq Kar
Magar Had Se Gujar Jaane Ka Nahi

Kushaada Jarf Hona Chaiye
Chhalak Jaane Ka Bhar Jaane Ka Nahi
Sitar Noch Ke Jaunga
Main Khali Hath Ghar Jaane Ka Nai

Waba Faili Hui Hain Har Taraf
Abhi Mahool Mar Jaane Ka Nahi
Wo Gardan Napta Hain, Naap Le
Magar Jalim Se Darr Jaane Ka Nahi

Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi Lyrics in Hindi by Rahat Indori - बुलाती है मगर जाने का नहीं ऐसी एक कविता हैं जो हमें जीवन में इश्क़ करने के बारे में सुझाव देती हैं इस कविता को पढ़े और रहत इन्दोरी के वाक्यों को समझने की कोशिश करे अगर आपको कोई शब्द समझ न आये तो हमने निचे के शब्दो का मतलब दिया गया है
कविता: बुलाती हैं मगर जाने का नहीं
लेखक: रहत इन्दोरी

Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi Lyrics in Hindi

बुलाती हैं मगर जाने का नहीं
ये दुनिया हैं इधर जाने का नहीं
मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर
मगर हद से गुजर जाने का नहीं

कुशादा जर्फ़ होना चाइये
छलक जाने का बहार जाने का नहीं
सितार नोच के जाऊंगा
मैं ख़ाली हाथ घर जाने का नहीं

वबा फैली हुई हैं हर तरफ
अभी माहोल मर जाने का नहीं 
वो गर्दन नापता हैं नाप ले
मगर जालिम से डर जाने का नहीं

Rahat Indori's Video